-->

राष्ट्रीय शैक्षणिक प्रौद्योगिकी संस्थान (CIET)




राष्ट्रीय शैक्षणिक प्रौद्योगिकी संस्थान(CIET), एनसीईआरटी की एक संवैधानिक इकाई है 1984 में शैक्षिक प्रौद्योगिकी और शिक्षण एड्स विभाग के विलय के साथ अस्तित्व में आई। CIET शैक्षिक प्रौद्योगिकी का एक प्रीमियर राष्ट्रीय संस्थान है इसका प्रमुख उद्देश्य शैक्षिक प्रोधोगिकियों का उपयोग को बढ़ावा देना, अर्थात रेडियो, टीवी, फिल्म, उपग्रह संचार और साइबर मीडिया या तो अलग से या संयोजन में। संस्थान शैक्षिक अवसरों को चौड़ा करने, इक्विटी को बढ़ावा देने और स्कूल स्तर पर शैक्षिक प्रक्रियाओं की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए गतिविधियों का आयोजन करता है



केंद्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी संस्थान, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) की एक संघटक इकाई है जो कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत एक स्वायत्त संगठन है शैक्षिक प्रौद्योगिकी केंद्र और शिक्षण सहायिकी विभाग के विलय से 1984 में स्थापित इस संस्था का मुख्य उद्देश्य विद्यालय स्तर पर शैक्षिक प्रौद्योगिकी विशेषत: जनसंचार माध्यम को एकल रूप अथवा संयोजन (मल्टी मीडिया पैकेज) में शैक्षिक अवसरों के विस्तार और शैक्षिक प्रक्रियाओं की गुणवत्ता में सुधार करना है शैक्षिक प्रौद्योगिकी के एक प्रमुख एवं शीर्षस्थ संस्थान के रूप में सीआईईटी के मुख्य कार्य हैं


  1. प्रारंभिक शिक्षा के सार्वभौमीकरण के राष्ट्रीय लक्ष्यों को प्राप्त करने हेतु वैकल्पिक अधिगम प्रणालियों का डिजाइन करना, निर्माण करना, परीक्षण और प्रसारण करना।
  2. लघु, मध्य, दीर्घ स्तरों पर विभिन्न शैक्षिक समस्याओं का समाधान करना।






सी. आई. ई. टी. के क्षेत्र  (Area of CIET)


  1. मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा भारत के 5 राज्यों में स्थापित राज्य  शैक्षिक प्रौद्योगिकी संस्थानों (एसआईईटी) के अकादमिक एवं तकनीकी कार्यक्रमों तथा क्रियाकलापों को सलाह देना और समन्वय करना 
  2. विद्यालय स्तर पर पाठ्यचर्यात्मक एवं पाठ्ठोत्तर क्रियाकलापों के संचालन को मजबूत बनाने के लिए मीडिया सॉफ्टवेयर सामग्री अर्थात दूरदर्शन/आकाशवाणी (प्रसारण के साथ-साथ गैर प्रसारण दोनों के प्रयोग हेतु) ग्राफिक्स तथा अन्य कार्यक्रमों का डिजाइन एवं निर्माण करना 
  3. आलेख निर्माण, मीडिया संचार, मीडिया निर्माण, मीडिया शोध, तकनीकी प्रचालन, स्टूडियो स्थापना, उपकरण की मरम्मत एवं रखरखाव जैसे क्षेत्रों में प्रशिक्षण के माध्यम से उपर्युक्त शैक्षिक सॉफ्टवेयर सामग्री के निर्माण एवं उपयोग में क्षमताओं का सृजन करना 
  4. शिक्षा में सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) के उपयोग की योजना को तैयार करना 
  5. शैक्षिक प्रौद्योगिकी के उपयोग में शिक्षा के उच्च अध्ययन संस्थानों/अध्यापक शिक्षा महाविद्यालय और जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों के संकाय को उनके अध्यापक शिक्षा कार्यक्रमों में प्रशिक्षित करना 
  6. सामग्री में सुधार करने और उनकी प्रभावकारिता की वृद्धि करने को ध्यान में रखते हुए प्रणालियों, कार्यक्रमों और सामग्री का अनुसंधान करना, मूल्यांकन करना तथा अनुवीक्षण करना 
  7. बेहतर उपयोग के लिए सूचना सामग्री और कार्यक्रमों का प्रलेखन एवं प्रसार करना तथा शैक्षिक प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक वितरण केंद्र/एजेंसी के रूप में कार्य करना।





CIET  के कार्य (Work of CIET)


  1. मानव संसाधन विकास मंत्रालय, राज्य और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों के साथ समन्वय एजेंसी के रूप में कार्य करना 
  2. शैक्षिक प्रौद्योगिकी और दूरस्थ शिक्षा संस्थानों की कंसलटेंसी 
  3. दूरदर्शन में शैक्षिक फिल्मों, वीडियो टेप और ऑडियो टेप की आपूर्ति और स्क्रीनिंग के लिए विस्तार सेवाएं 
  4. सिस्टम, विधियों और सामग्रियों के परीक्षण और सुधार के लिए अनुसंधान और मूल्यांकन 
  5. ऑडियोवीजुअल शैक्षणिक सामग्री और अन्य कम लागत वाले एड्स का उत्पादन 
  6. विशेष क्षेत्र, रेडियो, ऑडियो, टेलीविजन और वीडियो उत्पादन और कम लागत वाले शिक्षण सहायक प्रशिक्षण 
  7. शैक्षिक योजनाकारों, प्रशासकों को शैक्षिक प्रौद्योगिकी की अवधारणा के लिए उन्मुखीकरण 
  8. शिक्षा की समस्याओं से निपटने के लिए वैकल्पिक शिक्षण प्रणाली तैयार करना 
  9. NCERT के अन्य घटकों को परामर्श और मीडिया सहायता प्रदान करना 
  10. एसआईईटी की गतिविधियों की सलाह और समन्वय 
  11. शैक्षिक प्रौद्योगिकी में ट्रेन कार्मिक 
  12. शैक्षिक प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देना 
  13. वैकल्पिक शिक्षण प्रणालियों का डिजाइन, विकास और प्रसार

Post a Comment

0 Comments