कार्यशाला का अर्थ, परिभाषा, उद्देश्य, विशेषताएं

कार्यशाला का अर्थ (Meaning of Workshop)





कार्यशाला की प्रक्रिया व्यवहारवाद एवं प्रयोजनवादियों के प्रयासों के फलस्वरूप विकसित की गई है वर्तमान समय में शिक्षा के क्षेत्र में सामूहिक के समाधान के अनेक रूप देखने को मिलते हैं जैसे- सामूहिक सम्मेलन, सामूहिक चर्चा, सामूहिक कार्यशाला आदि। इन विभिन्न प्रविधियों में कार्यशाला सबसे अधिक महत्वपूर्ण मानी जाती है शिक्षा के क्षेत्र में जटिल समस्याओं के समाधान एवं नीतियों का निर्धारण करने हेतु कार्यशालाओं का प्रचलन बढ़ता जा रहा है




कार्यशाला की परिभाषा (Definition of Workshop)


डॉ. प्रीतम सिंह के अनुसार- कार्यशाला आमने-सामने  का ऐसा प्राथमिक समूह है जिसमें सामाजिक अंतः क्रिया अधिक प्रत्यक्ष एवं पास होती है और सदस्यों पर अधिक सामाजिक नियंत्रण रखती हैं






कार्यशाला के उद्देश्य (Objectives of Workshop)


  1.  व्यक्तिगत रूप से भाग लेने तथा कार्य करने की योग्यताओं का विकास करना 
  2. कक्षा से संबंधित समस्याओं का समाधान ढूंढना 
  3. शिक्षण तथा शिक्षा से संबंधित नए उपागम का परीक्षण करना 
  4. किसी बिंदु के व्यवहारिक पक्ष को समझना   
  5. शिक्षण की विशिष्ट व्यवसायिक क्षमताओं का विकास करना 
  6. किसी बिंदु का स्पष्टीकरण करना 
  7. शिक्षण की प्रभावशाली प्रविधियां एवं विधियों का निर्धारण करना 
  8. शिक्षा एवं व्यवसाय संबंधी उद्देश्यों एवं विधियों का सामूहिक रूप से निर्धारण करना।


कार्यशाला के सोपान (Steps of Workshop)


किसी भी कार्यशाला के प्रमुख सोपान निम्नलिखित हैं

1.प्रकरण का चयन- कार्यशाला की संचालन प्रक्रिया प्रारंभ करने से पूर्व प्रकरण का चयन करना आवश्यक है यह चयन बालकों के मानसिक स्तर के अनुसार किया जाना चाहिए

2.नेता का चयन- कार्यशाला के संचालन के लिए अध्यक्ष या नेता का चयन करना आवश्यक है ताकि वह समय-समय पर आवश्यक मार्गदर्शन व व्यवस्था बनाए रखने हेतु कार्यशाला को सफल बनाएं

3.कार्यशाला की बैठक व्यवस्था- अध्यक्ष को चयन के उपरांत कार्यशाला के लिए समुचित बैठक व्यवस्था करना आवश्यक है

4.कार्यशाला का प्रकार- अध्यक्ष कार्यशाला के प्रकरण के संबंध में संक्षिप्त परिचय एवं महत्व बताते हुए कार्यशाला का शुभारंभ करता है

5.मूल्यांकन- कार्यशाला के समापन के समय उसका मूल्यांकन किया जाए ताकि यह मालूम हो सके कि कार्यशाला कहां तक सफल रही






कार्यशाला की विशेषताएं (Characteristics of Workshop)


  1. सदस्यों के मध्य पाई जाने वाली सामाजिक अंतः क्रिया सभी सदस्यों का सामाजिक नियंत्रण करती हैं 
  2. कार्यशाला के सदस्यों में निर्णय लेने की क्षमता होती है 
  3. कार्यशाला के सदस्यों के मध्य समान इच्छा होती है 
  4. कार्यालय के सदस्य आत्म-निर्देशन हेतु स्वतंत्र होते हैं 
  5. कार्यशाला समूह के आकार एवं क्षमताओं में स्पष्ट संबद्धता पाई जाती है 
  6. कार्यशाला समूह के समक्ष एक सामान्य उद्देश्य होते हैं 
  7. कार्यशाला सदस्यों में पाई जाने वाली अंतः क्रिया में गत्यात्मकता होती है 
  8. कार्यशाला के सदस्यों में परस्पर निकट स्पष्ट एवं औपचारिक सामाजिक अन्तः क्रिया पाई जाती है 
  9. कार्यशाला परस्पर सम्मुख बैठे व्यक्तियों का प्राथमिक समूह है

Post a Comment

0 Comments