आकलन परिभाषा, महत्त्व, उद्देश्य

 आकलन का अर्थ एवं परिभाषा (Assessment Definition)

Assessment


मूलतः का शब्द Assessment की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द 'ad sedere' (to sit beside) से मानी जाती है जिसका अर्थ है पास में बैठना। वस्तुतः मध्यकालीन लैटिन समुदाय  में जज के सहायक का कार्य टैक्स निर्धारित करने के उद्देश्य से किसी की संपत्ति का अनुमान लगाना होता था बाद में इस शब्द का अर्थ परिवर्तित होकर किसी व्यक्ति विचार आदि के बारे में निर्णय लेना हो गया सामान्य अर्थों में आकलन का अर्थ है किसी व्यक्ति या समूह से संबंधित सूचना संग्रहण की प्रक्रिया से है ताकि व्यक्ति या समूह विशेष के संदर्भ में कोई निर्णय लिया जा सके|  


शब्दकोश के अनुसार, "आकलन का तात्पर्य किसी चीज की कीमत, वैल्यू या महत्त्व का निर्णय अथवा निर्धारण करना है (the act of judging or deciding the amount, value, quality, or importance of something)

वालेस, लार्सन और एल्क्सनीन, 1992, के अनुसार, "आकलन का तात्पर्य किसी व्यक्ति या समूह के बारे में सूचना संग्रहण विश्लेषण एवं उनका अर्थ निकालने की प्रक्रिया से है जिससे किसी व्यक्ति के बारे में अनुदेशात्मक, निर्देशात्मक अथवा प्रशासनिक निर्णय लिए जा सके" 

(Assessment refers to the process of gathering, analyzing and interpreting information in order to make instructional, administrative and / or guidance decisions about or for an individual (Wallace, Larsen and Elksnin, 1992)

"आकलन का अर्थ उद्देश्य पूर्ण क्रियाओं द्वारा सूचना संग्रहण एवं व्यवस्थापन की प्रक्रिया से है ताकि शिक्षण अधिगम एवं विभिन्न व्यक्तियों के संदर्भ में उनका अर्थ निकाला जा सके और पूर्व निर्धारित मानदंडों से उनकी तुलना की जा सके" 

Assessment is the process of collecting and organising information from purposeful activities (e.g., tests on performance or learning) with a view to drawing inferences about teaching and learning, as well as about persons, often making comparisons against established criteria. (Lampriyanou & Athanasou, 2009)

यदि हम उपरोक्त परिभाषा का विश्लेषण करते हैं तो पाते हैं कि आकलन के मुख्यता 5 पहलू हैं 

उद्देश्य पूर्ण कार्य (Purposeful Activity)

सूचना संग्रहण (Collection of Information)

सूचना का विश्लेषण (Analysis of Information)

सूचना का अर्थ निकालना (Interpretation of Information)

अनुदेशात्मक प्रशासनिक अथवा निर्देशात्मक निर्णय (Instructional, Administrative Or Guidance related decision making)


आकलन के उद्देश्य (Purpose of Assessment)

1. शिक्षण पूर्व उद्देश्य 

अनुदेशन से पूर्व विद्यार्थी के पूर्व ज्ञान को जानने के लिए 

अधिगम की कठिनाई अथवा अग्रिम ज्ञान को जानने के लिए 

अनुदेशन की योजना बनाने के लिए 

2.शिक्षण के दौरान के उद्देश्य 

अनुदेशन की प्रभाविता को जानने के लिए 

अधिगम के दौरान विद्यार्थी की समस्याओं को जानने के लिए 

अनुदेशन के बारे में प्रतिपुष्टि के लिए 

नैदानिक अनुदेशन के लिए 

3.शिक्षण के उपरांत के उद्देश्य 

शैक्षिक संप्राप्ति के प्रमाण के लिए 

विद्यार्थियों के शैक्षिक संप्राप्ति के आधार पर पेग्रेड प्रदान करने के लिए 

संपूर्ण शिक्षण की प्रभावशीलता जानने के लिए 

शिक्षक के स्वमूल्यांकन के लिए 


आकलन की आवश्यकता तथा महत्व (Need and significance of Assessment)

आकलन की आवश्यकता विद्यालय में छात्रों की अधिगम क्षमता. रुचि, व्यक्तित्व अभियोग्यता आदि के बारे में जानकारी करने तथा उनके अनुरूप पाठ्यक्रम में निर्माण संरचना आदि के लिए आकलन की आवश्यकता पड़ती है आकलन की आवश्यकता निम्न बिंदुओं को समझने के लिए पड़ती है 

1.विद्यार्थी के संदर्भ में 

छात्र क्या जानता है? 

छात्रों की रुचियाँ कौन-कौन सी हैं?

छात्र की विशिष्ट आवश्यकताएं क्या हैं? 

छात्रों की योग्यता के अनुरूप पाठ्यक्रम चयन करने में 

कक्षा में छात्रों का उचित स्थान वर्गीकरण करने में 

2.अध्यापक हेतु 

छात्रों के कौशल योग्यता तथा अधिगम क्षमता को पहचानने के लिए 

शिक्षण विधि का चयन करने के लिए 

नई कक्षाओं की व्यवस्थापन के लिए 

विद्यार्थियों की व्यक्तिगत आवश्यकताओं को जानने के लिए 

शिक्षण सामग्री के विकास के लिए 

3.पाठ्य सहगामी क्रियाओं हेतु 

छात्रों की रुचि के अनुरूप पाठ्य सहगामी क्रियाओं का वर्गीकरण करने के लिए 

कौन सा छात्र किस कार्य में अधिक उपयुक्त है ज्ञात कर रणनीति निर्माण के लिए 

विद्यार्थियों की संस्कृति, कलात्मक, रचनात्मक योग्यता को पहचानने के लिए 

4.परिवार के लिए 

छात्रों के पालकों को छात्र की प्रगति से अवगत कराने के लिए 

छात्रों की अधिगम क्षमता के बारे में जानकारी देने के लिए 

छात्रों की समस्याओं से पलकों को अवगत कराने के लिए 

छात्रों की विद्यालय गतिविधियों से संबंधित जानकारी प्रदान करने के लिए 


आकलन का महत्व-

आकलन द्वारा विद्यार्थियों की अधिगम क्षमता को बढ़ाने मूल्यांकन के पहले सुधार हेतु पृष्ठ पोषण लिया जाता है यह मूल्यांकन का ही एक छोटा रूप है इसके शिक्षक महत्त्व निम्नानुसार है 

1.अधिगम के लिए गुणवत्तापूर्ण वातावरण निर्मित करने के लिए 

2.शिक्षण प्रक्रिया को प्रभावशाली बनाने के लिए 

3.शिक्षक एवं छात्रों के स्व मूल्यांकन के लिए 

4.छात्रों की प्रगति का पता लगाने के लिए निम्न बिंदुओं के आकलन किया जाता है 

छात्रों ने क्या सीखा?

क्या छात्र दैनिक जीवन में नए ज्ञान और कौशल का उपयोग कर रहे हैं?

क्या छात्र ने ज्ञान के बारे में बता सकते हैं?

5.वैधानिक पृष्ठ पोषण प्रदान करने के लिए 

छात्रों के ज्ञान के संदर्भ में 

छात्रों के प्रदर्शन के संदर्भ में 

छात्रों की आवश्यकता के संदर्भ में 

6. विभिन्न क्षेत्रों की प्रगति के मूल्यांकन में 

छात्रों की सामाजिक स्तर ज्ञात करने में 

अधिगम की प्रगति जानने में 

शिक्षक की शिक्षण विधि के सुधार में 

कक्षा में छात्रों का उचित स्थान निर्धारित करने में 

आकलन शिक्षा प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण अंग है आकलन एक शिक्षक को अपने शिक्षण के उद्देश्य एवं उनके संदर्भ में विद्यार्थियों की संप्राप्ति को जानने में, अधिगम में विद्यार्थियों को हो रही कठिनाइयों और उनके कारणों का विश्लेषण करने में एवं तदनुसार नैदानिक शिक्षण की योजना बनाने में मदद करता है

अधिगम के लिए आकलन की मुख्य विशेषताएं 

  • रचनात्मक आकलन नैदानिक और उपचारात्मक होता है 
  • रचनात्मक आकलन विद्यार्थियों शिक्षा प्राप्ति में सक्रिय भागीदार बनाता है 
  • रचनात्मक आकलन अध्यापक को प्रभावी अध्यापन में सहायता करता है 
  • रचनात्मक आकलन विद्यार्थियों की अभिप्रेरणा और आत्मसम्मान को उन्नत बनाता है 
  • रचनात्मक आकलन विद्यार्थियों में स्व मूल्यांकन की प्रवृत्ति को प्रोत्साहित करता है 
  • रचनात्मक आकलन क्या और कैसे पढ़ाया जाए इसका निर्णय करने में शिक्षक को सहयोग करता है 
  • रचनात्मक आकलन विद्यार्थियों को उन  मानदंडों को समझने के लिए प्रोत्साहित करता है जिनका उपयोग उनकी शैक्षिक संप्राप्ति का आकलन किया जाने वाला है 
  • रचनात्मक आकलन विद्यार्थियों को रचनात्मक फीडबैक प्रदान करके उन्हें सुधार करने का अवसर प्रदान करता है 

अधिगम के लिए आकलन के लाभ 

  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थी को उसके अधिगम लक्ष्यों के अविभिन्न अवयवों को समझने में सहायता करता है उन्हें उनके अधिगम के प्रति जिम्मेवार बनाता है एवं आगे के अधिगम को योजनाबद्ध करने में सहायक है 
  • अधिगम के लिए आकलन अधिगम एवं आकलन के बीच एक मजबूत कड़ी का निर्माण करता है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थियों के अधिगम के लिए प्रतिपुष्टि प्रदान करता है जो अधिगम को प्रभावी बनाता है और उनकी संप्राप्ति पर सकारात्मक प्रभाव डालता है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थियों को उनके अधिगम के प्रति रचनात्मक प्रतिपुष्टि प्रदान कर उनका आत्मविश्वास, अन्वेषण क्षमता एवं रचनात्मकता में वृद्धि करता है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थी कैसे सीखते हैं पर केंद्रित है 
  • अधिगम के लिए आकलन संवेदनशील एवं रचनावादी है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थियों की अभिप्रेरणा में वृद्धि करने में सहायक है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थियों के लक्ष्य एवं मानदंड की समझ विकसित करता है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थियों की सर्वांगीण उन्नति में सहायक है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थियों में स्व अधिगम की योग्यता विकसित करता है 
  • अधिगम के लिए आकलन विद्यार्थी संप्राप्ति का विभिन्न क्षेत्रों में व्यापक आकलन करता है

Donate on UPI ID– achalup41-1@oksbi